क्यों चुना है मैंने तुम्हें !

अश्लीलता नहीं रोक सकते हो तो
चाहे फिल्में, टीवी,अखबारों और
विज्ञापनों पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दो!

नशे में बहकते कदमों को
नहीं थाम सकते हो तो
चाहे सारे मयखाने बंद करा दो !

बढती कामुकता नहीं रोक सकते हो
तो चाहे पीटा एक्ट को समाप्त कर
कामुकता से पीडितों पर लगे
सारे प्रतिबंध हटाकर
कुंठाओ को मिटा दो!

अपराध नहीं रोक सकते हो तो
चाहे सारी पुलिस को हटा कर
सैनिक शासन लगा दो !

मगर नहीं है मंजूर मुझे
नन्हीं नन्हीं फूल सी बच्चियों
के बदन से खिलवाड….!!!

नहीं रोक सकते अगर तुम इसे
तो क्यों हो तुम
किस लिए हो तुम
क्यों चुना है मैंने तुम्हें !!!

:— राजेश कुमार